आपने देखा ...

रविवार, 29 जुलाई 2012

                             मेरा नाम होने लगा है

                                    तुम्हारी बेवफाई से
                                    धक्का तो जरूर लगा है
                                    पर तुम्हारी वजह से
                                    मेरा नाम होने लगा है
                                    कहाँ तो कोई मुझे जानता न था
                                    कभी चेहरा मेरा पहचानता न था
                                    अब ये हुआ हाल
                                    शहर मुझे जानने लगा है
                                    तुम्हारी बेवफाई से
                                    मुझे पहचनाने लगा है
                                    मुझे यकीन हो गया कि 
                                    हर आदमी के शोहरत के पीछे 
                                    किसी मेहरबान का हाथ लगा है 
                                    तुमने बेवफाई की चलो माफ़ किया 
                                    तुमने दया न की ये भी किया माफ़ 
                                    अब जमाना मुझ पर 
                                    दया करने लगा है 
                                    तुम्हारी बेवफाई से
                                    धक्का तो जरूर लगा है
                                    पर तुम्हारी वजह से
                                    मेरा नाम होने लगा है
                                    तुम यकीन करो तुम्हें कोसूँगा नहीं 
                                    अब मिलोगी तो पहचानूँगा भी नहीं 
                                    क्योंकि जो शोहरत मिली है इतनी 
                                    उसके खोने का डर होने लगा है 

                                                                 आनन्द  

3 टिप्‍पणियां:

सागर ने कहा…

तुम यकीन करो तुम्हें कोसूँगा नहीं
अब मिलोगी तो पहचानूँगा भी नहीं
क्योंकि जो शोहरत मिली है इतनी
उसके खोने का डर होने लगा है
behtareen.,.,.


anand vikram tripathi ने कहा…

आशीष भाई प्रशंसा के liye शुक्रिया ।

संजय भास्कर ने कहा…

हृदय स्पर्शी रचना