आपने देखा ...

शुक्रवार, 27 जुलाई 2012

                  जिन्दगी अपने गुलदस्तों के
                  खूबसूरत फूलों में से
                  मुझे भी
                  एक फूल ही दे देना
                  अभी न सही
                  पर देर न करना

2 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…
इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.
anand vikram tripathi ने कहा…

शास्त्री जी आप की टिप्पणी को व्यवस्थित करते समय कोई अनजान बटन दब जाने से वो मिट गई ,क्षमा चाहूँगा ।