आपने देखा ...

बुधवार, 20 फ़रवरी 2013

तू ना मिला ,ना सही
पर तेरा प्यार बहुत कुछ
सिखा गया
अनुभव मिला
एक नाम मिला
एक नयी पहचान मिली
तेरे नाम से
तू ना मिला ना सही
पर तेरा प्यार
कुछ ना दे के भी
दे गया बहुत कुछ
आज मेरी जो पहचान है
वो है सिर्फ और सिर्फ
तेरे नाम से ।
..............आनंद विक्रम .....

5 टिप्‍पणियां:

संजय कुमार भास्‍कर ने कहा…

अच्छी रचना...अंतिम पंक्तियाँ तो बहुत ही अच्छी लगीं.

संजय कुमार भास्‍कर ने कहा…

कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-

संजय कुमार
शब्दों की मुस्कुराहट
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

vibha rani Shrivastava ने कहा…

मंगलवार 28/05/2013 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं ....
आपके सुझावों का स्वागत है ....
धन्यवाद !!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

किसी का होना क्या कुछ कर जाता है ...

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

very nice ....